Latest News Latest Update Treading News

मौसम विभाग की ओर से बड़ा ऐलान जाने आने वाले दिनों में कैसा हाल रहेगा ।

मौसम विभाग की ओर से एडवाइजरी जारी किया गया है आने वाले दिनों में मौसम का क्या हाल रहेगा क्या आप सुखाड़ा सकता है एवं किन किन राज्यों में कैसा हाल रहेगा सारी जानकारी बताए गए हैं तो आप लोग जरूर जाने अगर आप लोग भी किसान भाई लोग हैं तो जरूर जाने क्योंकि लगभग 90% किसान अपनी खेती बारी पर निर्भर रहता है ऐसे में अगर बरसा नहीं होगी तो किसानों के लिए काफी परेशानियां देखने को मिलेंगे क्योंकि एक तरफ जहां पेट्रोल डीजल का दाम तेजी से बढ़ रहा है दूसरी तरफ मानसून विभाग की ओर से ही बताया जा रहा है कि इस वर्ष कैसा रहेगा मौसम यह सारी चीजें बताया गया है ।

आधी आबादी खेती पर निर्भर

भारत दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी इकॉनमी है और सबसे ज्यादा तेजी से आगे बढ़ रही है। सिंचाई सुविधाओं की कमी के कारण खेती-किसानी से जुड़े लोग मॉनसून सीजन की बारिश पर निर्भर रहते हैं। इसके अलावा बिजली पैदा करने, फैक्ट्रियों में प्रॉडक्शन और पीने के लिए जिन जलाशयों से पानी मुहैया कराया जाता है, उनमें 91 फीसदी इसी मॉनसूनी बारिश पर निर्भर हैं। देश की जीडीपी में खेती का हिस्सा 20 फीसदी है। करीब-करीब आधी आबादी रोजी-रोटी के लिए खेती पर निर्भर है।

Rohtas News: बिगड़े मौसम और बड़े-बड़े ओलों ने किसानों की मेहनत को किया तबाह, देखिए रोहतास से ग्राउंड रिपोर्ट

13 बार पड़ चुका है सूख

देश में 1950 के बाद 13 बार सूखा पड़ चुका है, जिसमें से 10 अल-नीनो के दौरान ही हुए, लेकिन जरूरी नहीं है कि अल-नीनो के कारण सूखे की नौबत आ ही जाए। 1997 में भारत ने अब तक के सबसे तगड़े अल-नीनो का सामना किया, लेकिन तब मॉनसून सामान्य था। 2001 से 2020 के बीच भारत में सात बार अल-नीनो की स्थिति बनी। इनमें चार की ही वजह से सूखा पड़ा। हालांकि इससे खरीफ के उत्पादन में 16 फीसदी तक की गिरावट आई, जिससे महंगाई बढ़ी। देश की सालाना खाद्य सप्लाई का आधा हिस्सा खरीफ की फसलें पूरा करती हैं। हालांकि, अब सूखा पहले जैसी आपदा नहीं रहा। कृषि उत्पादकता में लगातार उछाल के कारण यह स्थिति आई है। देश का खाद्य उत्पादन फिलहाल करीब 32 करोड़ टन तक है। 2009 में देश में तीन दशकों में सबसे खराब सूखा पड़ा था। तब भी देश 2007 की तुलना में एक लाख टन अधिक खाद्यान्न का उत्पादन करने में कामयाब रहा। खास बात ये है कि 2007 में मॉनसून सामान्य था। देश एक और मौसमी घटना पर भरोसा कर रहा है। यह इंडियन ओशन डिपोल (IOD) है, जो बारिश को बढ़ावा देता है और अल-नीनो को विफल करता है। फिलहाल यह पॉजिटिव है।
अगर सूखा पड़ा तो क्या होगा

अगर सूखा पड़ा तो यह किसानों की आय कम करेगा, जिससे बाजार में टीवी, फ्रिज, ट्रैक्टर, पैसिंजर गाड़ी जैसी चीजों की डिमांड कम होगी। बेरोजगारी बढ़ेगी। महंगाई को हवा मिलेगी। यह कुल मिलाकर अर्थव्यवस्था को चोट पहुंचाएगा। रिजर्व बैंक का मानना है कि अगर भारत अल-नीनो से बच जाता है तो मौजूदा वित्त वर्ष में महंगाई 5.0-5.6 फीसदी के बीच रहने की उम्मीद है। यानी अल-नीनो से सूखे का सामना होने पर महंगाई 6 फीसदी से ऊपर जा सकती है। 6 पर्सेंट से ज्यादा महंगाई रिजर्व बैंक के कम्फर्ट जोन के बाहर की चीज है। इस पर काबू पाने के लिए रिजर्व बैंक को ब्याज दरों में बढ़ोतरी करनी पड़ सकती है। इससे लोन महंगे हो जाएंगे। 

मौसम विभाग से जुड़ी खबरों के लिए हमारे ग्रुप से जरूर जुड़े यहां पर किसानों को अपडेट दिया जाता है । 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *