PM Kisan Yojana labh 6000 rupye
10th 12th Exam Latest News VVI Objective

PM Kisan Yojana: सभी किसान भाइयों एवं बहनो को मिलेगी 6000 रूपये की सलाना यहाँ से मिलेगी जानकारी।।

PM Kisan Yojana labh 6000 rupye

Pm kisan, Pm kisan Yojana, Pm Kisan Yojan labh, Pm Kisan Yojan yearly, Pm Kisan Yojana 2022

New Delhi pm Kisan Yojana: किसान क़े आथिर्क मदत करने के लिए वही जितेंद्र की मोदी सरकार की तरफ से पीएम किसान योजना चलाई जा रही है इसके तहत किसान के खाते में सालाना ₹6000 ट्रांसफर किया जाता है आप तो किसानों को 10 माह के इसका लाभ मिल चुका है उन्हें पीएम किसान सम्मान निधि योजना की ग्रामीण किसका इंतजार है राकेश का इंतजार खत्म होने जा रहा है 11 चेस्ट के लेकर सभी किसान भाइयों का इंतजार है अब उन सभी किसान भाइयों का इंतजार समाप्त होने वाली है और बहुत सारे किसान भाइयों का इस बार 11th किस्त का फायदा नहीं मिलेगा जिनको पीएम किसान योजना का न्यू अपडेट के माध्यम से बताया गया इस पोस्ट को लास्ट तक जरूर पढ़ें तभी आपको पता चलेगा किन-किन किसान भाइयों को पीएम किसान योजना का फायदा मिलने वाला है।

11वीं क़िस्त इस दिन आएगा।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक 31 मई के किसान के खातों में 11वीं की जा सकती है पिछले साल 15 मई को अप्रैल जुलाई वाले किस्त जारी हुई थी 11वीं किस्त लाभ उठाने के लिए पीएम किसान के खाते में ईकेवाईसी करवाना अनिवार्य होगा। जिम किसान भाइयों का ईकेवाईसी नहीं होगा उनका E KYC किसका फायदा नहीं मिलेगा अब तक ईकेवाईसी नहीं कराने सभी किसान भाइयों जल्दी से e kyc सभी को पीएम किसान खाते की केवाईसी कराने का अंतिम तारीख 31 मई को रखी गई है 31 मई से पहले सभी किसान भाइयों को E KYC करवाना अनिवार्य होगा।

दो तरीका से की जा सकती है। EKYC

pm kisan खाते की EKYC दो तरीका से की जा सकती है। किसान नजदीकी csc सेंटर जाकर अपने खाते की ekyc करा सकते है। हालांकि, इसके लिए आपका किस देनी इ kyc करा सकते है। इसके लिए आपको फीस देनी होगी।
[10:40 am, 18/05/2022] Rahul Saren: LPG Subsidy: अगर आपके खाते में नहीं आ रही LPG की सब्सिडी फटाफट ऐसे करें चेक

इसलिए आप इस वजह का पता करें और तुरंत इसे ठीक करवा लें ताकि एलपीजी गैस की सब्सिडी आपको खाते में आना शुरू हो जाए। दरअसल इसकी वजह आपके एलपीजी कंजेक्शन को आधार से लिंक नहीं होना हो सकता है

New Delhi यदि आप रसोई गैस जलाते हैं तो यह खबर आपके लिए खास है क्या आपके खाते में एलपीजी का सब्सिडी आ रही है। यदि आपको नहीं पता तो हम बता दें कि कुछ कारण से आपको यह नहीं मिल रही होगी।

इसलिए आप इस वजह का पता करें और तुरंत इसे ठीक करवा ले ताकि एलपीजी गैस की सब्सिडी आपको खाते मैं आना शुरू हो जाए। दरअसल इसकी वजह आपको एलपीजी कंजेक्शन को आधार से लिंक नहीं होना हो सकता है

यदि आपने अपने एलपीजी को आधार कार्ड से लिंक नहीं करवाया होगा तो तुरंत करवाने का काम करें एलपीजी आधार लिंकेज की वजह से अगर आपकी सब्सिडी बंद हो जाए तो आइए जान लीजिए कि फिर से यह कैसे शुरू हो सकता है

स्टेप बाय स्टेप ऐसे आधार को एलपीजी से लिंक करें

● अपने फोन या कंप्यूटर पर इंटरनेट को पहले ओपन कर ले।

● यदि फोन से ऑपरेटर कर रहे हैं तो ब्राउज़र पर जाएं और www.mylpg.in टाइप करे इसे ओपन कर ले।

● दाएं तरफ गैस कंपनियों के गेम्स सिलेंडर की फोटो मिलेगी। आपने सर्विस प्रोवाइडर के गैस सिलेंडर के फोटो पर।

● अब एक नया विंडो ओपन होगा जो आपके सर्विस प्रोवाइड का है।

● अब आप सबसे ऊपर दाएं तरफ साइड इन और न्यू यूज़र का फैशन देखेंगे। उस पर।
● यदि आपने पहले ही अपनी आईडी बना रखी है तो आप ईमेल लॉगइन इन करें।
● आईडी नहीं है तो आपको न्यू यूजर पर के जरूरी जानकारी देखकर वेबसाइट पर लॉगइन करने की जरूरत है।
● लॉगइन करने के बाद जो विंडो अपने होगा उसमें दाएं तरफ ब्लू ब्लू सिलेंडर बुकिंग हिस्ट्री का विकल्प आपको नजर आएगा।
● यहां आपको जानकारी मिलेगी कि आपको किसी सिलेंडर पर कितनी सब्सिडी दी जाएगी है। कितनी सब्सिडी की राशि कब दी गई है उसका भी विवरण आपको देखा पाएंगे

●यदि आपने गैस की बुकिंग की है और आपको सब्सिडी के पैसे नहीं मिले हैं तो आपको सिटीबैंक वाले बटन पर ना होगा यहां से आपको सब्सिडी का पैसा नहीं मिले मिलने की शिकायत भी दर्ज करा सकते हैं।

●इसके अलावा यदि आपको एलपीजी गैस आईडी को अभी तक आपने अकाउंट से लिंक नहीं किया है तो आप डिस्ट्रीब्यूटर के पास जाकर यहां काम करवाले।

●जान ले यह काम की बात: यहां आपको बता दें कि चलाना ₹1000000 से अधिक की कमाई करने वाले लोग को सरकार एलपीजी सिलेंडर (LPG Cylinder) बुक करवाने पर सब्सिडी नहीं देती है। यदि आप पति-पत्नी दोनों काम करते हैं, तो दोनों की कमाई मिलाकर इसकी गणनाकरने का काम किया जाता है

PM Kisan Yojana labh 6000 rupye

Telegram  join

Leave a Reply

Your email address will not be published.