Matric Exam Class -10th Bihar Board Social Science बिहार बोर्ड मैट्रिक परीक्षा महत्पूर्ण ऑब्जेक्टिव सामजिक विज्ञान
10th 12th Exam Latest News VVI Objective

Matric Exam Class -10th Bihar Board Social Science बिहार बोर्ड मैट्रिक परीक्षा महत्पूर्ण ऑब्जेक्टिव सामजिक विज्ञान

(1) साइमन कमीशन किस वर्ष भारत आया था।

(a) 1919              (b) 1927

(c) ,1928             (d) 1930

(2) लखनऊ समझौता किस वर्ष हुआ था।

(a), 1916             (b) 1918

(c) 1929               (d) 1931

(3) महात्मा गांधी दक्षिण अफ्रीका से भारत कब वापस आएं थे।

(a) 1913               (b) 1919

(c) ,1920               (d) 1922

(4) काम नबील तथा न्यू इंडिया का प्रकाशन किसने किया।

(a), एनी बेसेंट                     (b) बल्लभ भाई पटेल

(c) महात्मा गांधी                 (d) बाल गंगाधर तिलक

 

Matric Exam Class -10th Bihar Board Social Science

(5) जलियांवाला बाग हत्याकांड कब हुआ था।

(a), 13 अप्रैल 1919                  (b) 14 अप्रैल 1919

(c) 15 अप्रैल 1919                   (d) 16 अप्रैल 1919

(6) रोलेट एक्ट किस वर्ष पारित हुआ था।

(a) 1911 मे                (b) 1919 मे

(c) 1935                    (d) 1947 मे

(7) रौलट कानून किस देश से बनाया गया था।

(a) सरकारी नौकरियों में प्रवेश के लिए

(b), शिक्षण संस्थान में प्रवेश के लिए

(c) कालाबाजारी रोकने के लिए

(d) क्रांतिकारी गतिविधियों पर अंकुश लगाने के लिए

(8) तुर्की में खलीफा का पद किस वर्ष में किया गया।

(a) 1920                (b) 1922

(c), 1924               (d) 1930

(9) भारत में खिलाफत आंदोलन कब और किस देश के शासक के समर्थक में शुरू हुआ था।

(a), 1920 तुर्की                 (b) 1920 अरब

(c) 1920 फ्रांस                 (d) 1920 जर्मनी

(10) गांधी जी को महात्मा की उपाधि किसने दी थी।

(a) मोतीलाल नेहरू                 (b) लाला लाजपत राय

(c) ,रविंद्र नाथ टैगोर               (d) गोपाल कृष्ण गोखले

Matric Exam Class -10th Bihar Board Social Science

(11) गांधीजी ने सर्वप्रथम किस अंग्रेजी नीति का विरोध किया था। ।

(a) ,नक्सलवाद            (b) राजस्ब

(c) प्रेस                       (d) शिक्षा

(12) चौरी चौरा वर्तमान भारत के किस राज्य में स्थित है।

(a) बिहार में                       (b) मध्य प्रदेश

(c) उत्तर प्रदेश में                 (d) आंध्र प्रदेश में

(13) महात्मा गांधी अपना राजनीतिक गुरु किसे मानते थे।

(a) बाल गंगाधर तिलक                (b) गोपाल कृष्ण गोखले

(c) ,लाला लाजपत राय                (d) सुरेंद्रनाथ बनर्जी

(14) महात्मा गांधी ने किस पत्रिका का संपादन किया था।

(a) केसरी                (b) ,मराठी

(c) यंग इंडिया            (d) बंगाली

Matric Exam Class -10th Bihar Board Social Science

(15) कांग्रेस ने किस तिथि को पूर्ण स्वतंत्रता दिवस मनाया।

(a) 31 दिसंबर 1929 को              (b) ,26 जनवरी 1930 को

(c) 12 मार्च 1930 को                   (d) मार्च में से 1932 को

(16) नेहरू रिपोर्ट किस वर्ष प्रस्तुत किया गया था।

(a) 1927 में          (b) 1928 में

(c) ,1929 में           (d) 1931

(17) साइमन कमीशन किस वर्ष भारत आया था।

(a) 1919               (b) 1927

(c), 1928             (d) 1930

(18) नमक कानून कब हुआ था।

(a) 5 अप्रैल 1930 को                   (b), 6 अप्रैल 1930 को

(c) 7 अप्रैल 1930                        (d) 8 अप्रैल 1930 को

(19) गांधी जी ने दांडी यात्रा किस तिथि को आरंभ की थी।

(a) 12 जनवरी 1930 को             (b) 12 फरवरी 1930 को

(c), 12 मार्च 1930 को                (d) 12 अप्रैल 1930 को

(20) चौकीदार कर के विरोध में कहां दौरान हुआ था

(a), बिहार में                (b) पंजाब में

(c) उत्तर प्रदेश              (d) गुजरात

 Matric Exam Class -10th Bihar Board Social Science 

प्रश्न –

1 खोखा किन मामलों में अपवाद था?

उतर-   खोखा जीवन के नियम और घर के नियमों के मामले में बहुत ज्यादा अपवाद था

2. सेन दंपति खोखा में कैसी संभावनाएँ देखते थे और उन संभावनाएँ देखते थे और उन संभावनाओं के लिए उन्होंने उसकी कैसी शिक्षा तय की थी ?

उतर-     सेन दंपति अपने खोखा के दुर्ललित व्यवहार से एवं उसके तोड़-फोड़ की हरकतों से इंजीनयर बनने की संभवनाएं देखते थे। उन संभावनाओं के लिए उन्होंने उसकी शिक्षा के लिए बढ़ई मिस्त्री को बुलवाकर ठोक-ठाक सिखाने के लिए तय किया था।

3.   सेन साहब के और उनके मित्रों के बीच क्या बातचीत हुई और पत्रकार मित्र ने उन्हें किस तरह उतर दिया?

उतर-   सेन साहब के ड्राइंग रूम में सेन साहब के कुछ मित्रगण के साथ-साथ एक पत्रकार मित्र भी उपस्थित थे। सभी परस्पर बातचीत कर रहे थे कि-किसका बेटा क्या कर रहा है, आगे क्या पढ़ेगा। सेन साहब तो बिना पूछे ही अपने खोखा को इंजीनियर बनने की बात कह डाली। जब पत्रकार मित्र से पूछा गया तो उन्होंने जवाब दिया-मैं चाहता हूँ मेरा बेटा जेंटिलमैन जरूर बने और जो कुछ बने,उसका काम है, उसे पूरी आजदी रहेगी।”

4.    मदन और ड्राइवर के बीच के विवाद के द्वारा कहानीकार क्या बताना चाहता है?

उतर-   मदन और ड्राइवर के बीच के विवाद के माध्यम से कहानीकार यह बताना चाहता है कि जनसाधारण भी वैसा की उसकी संगति होती है। ड्राइवर सेन साहब का नमक खाता है इसिलिए सेन साहब के बेटे की बदमाशी की ओर नजर-अंदाज कर देता है लेकिन एक दूसरा बच्चा को यदि गाड़ी छूने की ललक हो तो उसका धकेल दिया जाता है, उल्टे उस पर गल्त आरोप लगा देता है।

 

Matric Exam Class -10th Bihar Board Social Science

5. काशू और मदन के बीच झगड़े का कारण क्या था? इस प्रसंग के द्वारा लेखक क्या दिखाना चाहते है?

उतर-   काशू और मदन के बीच के झगड़े के कारण मात्र बाल हट्ठे था। यदि मदन को काशू की गाड़ी को स्पर्श करने का भी अधिकार नहीं तो काशू को मदन केआ लट्टू भी नचाने का अधिकार नहीं। लेकिन काशू रौव दिखाकर लट्टू नाचना चाहता है जो मदन के विचार से गलत था। फिर मदन की प्रतिशोध की भावना ने झगड़े  का रूप ले लिया। इस प्रसंग के द्वारा कहानीकार यह दर्शाना चाहते हैं कि-बच्चों में भी प्रतिशोध की भावना जागती है। बच्चा में यह ज्ञान नही होता कि कोई बच्चा बड़े बाप का बेटा है, में गरीब बाप का बेटा हूँ। जो बच्चों का स्वभाविक ज्ञान है।

6 . लेखक किस विंडबना की बात करते हैं ? विंडबना का स्वरूप क्या हैं ?

उतर-  लेखक बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर जी विंडबना की बात करते हुए कहते हैं कि इस युग में भी जातिवाद के पोषकों की कमी नहीं है। जिसका स्वरूप है कि जातिप्रथा श्रम विभाजन के साथ-साथ श्रमिक विभाजन का स्वरूप है कि जातिप्रथा श्रम विभाजन के साथ-साथ श्रमिक विभाजन का रूप ले रखा ह जो अस्वाभाविक है।

7 . जातिवाद के पोषक उसके पक्ष में क्या तर्क देते हैं?

उतर-   जातिवाद के पोषकों का तर्क है कि आधुनिक सभ्य समाज कार्य कुशलता के लिए श्रम विभाजन आवश्यक
मानता है और जाति प्रथा श्रम विभाजन का ही दूसरा रूप है, इसमें कोई बुराई नही।

8 .जातिवाद के पक्ष में दिए गए तर्को पर लेखक की प्रमुख आपत्तियाँ क्या है?

उतर-जातिवाद के पक्ष में दिए गए तर्को पर लेखक की आपतियाँ इस प्रकार है कि जातिप्रथा श्रम विभाजन के साथ-साथ श्रमिक विभाजन का भी रूप ले लिया है। किसी भी सभ्य समाज में श्रम विभाजन व्यवस्था श्रमिकों के विभिन्न वर्गों में अस्वाभाविक विभाजन नही करता है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.