Matric Exam Class- 10th Bihar Board
Latest News

Matric Exam Class- 10th Bihar Board Hindi बिहार बोर्ड मैट्रिक परीक्षा महत्पूर्ण ऑब्जेक्टिव सब्जेक्टिव हिंदी में

Matric Exam Class- 10th Bihar Board

1. गुरुनानक का जन्म कब हुआ था?

(A) 1450                        (B) .1469

(D) 1480                       (C) 1475

2. गुरुनानक का जन्म लाहौर के किस ग्राम में हुआ था?

(A) .तलबंडी                         (B) अमृतसर

(C) जालंधर                          (D) लुधियाना

3. किनका जन्म स्थान ‘नानकाना साहब’ कहलाता है?

(A) गुरु अर्जुन देव                                    (B) गुरु गोविन्द सिंह

(C) .गुरुनानक                                        (D) गुरु हरगोविन्द सिं

4. ‘नानकाना साहब’ कहाँ है?

(A) भारत में                         (B) .पाकिस्तान में

(C) अफगानिस्तान में              (D) श्रीलंका में

5. गुरुनानक किस काल के कवि हैं?

(A) आदिकाल           (B). भक्तिकाल

(C) रीतिकाल           (D) आधुनिक काल

6. ‘राम नाम बिनु बिरथे जगि जनमा’। यह पंक्ति की है।

(A). गुरुनानक                  (B) रसखान

(C) घनानंद                     (D) प्रेमघन

7. गुरुनानक कौन थे?

(A) सिक्खों के दशम गुरु

(B). सिक्खों के प्रथम गुरु

(C) हिन्दुओं के प्रथम गुरु

(D) मुस्लिमों के प्रथम

8. गुरु गुरुनानक के पिता का नाम क्या था?

(A) लालूचंद खत्री                                  (B) ताराचंद खत्री

(C). कालूचंद खत्री                                (D) वीरचंद खत्री

 

9. गुरुनानक किस भक्तिधारा के कवि हैं?

(A) सगुण भक्ति धारा                        (B) .निगुर्ण भक्ति धारा के

(C) सूफी धारा के                              (D) कृष्ण भक्ति धारा के

10. गुरुनानक की भेंट किस मुगल शासक से हुई थी?

(A) .बाबर                      (B) हूमायूँ

(C) अकबर                   (D) जहाँगीर

Matric Exam Class- 10th Bihar Board

11. गुरुनानक के उपदेशों में मिलती है—

(A) गुरु की महत्ता                             (B) ब्रह्म की सर्वशक्तिमत्ता

(C) नाम जप की महिमा                     (D). उपर्युक्त सभी

12. गुरुनानक की रचनाओं का संग्रह गुरु अर्जुन देव ने कब किया जो ‘गुरु ग्रंथ साहिब’ के नाम से प्रसिद्ध है।

(A) 1600 ई०              (B) 1602 ई०

(C). 1604 ई०             (D) 1610 ई०

13. नानक के अनुसार गुरु कृपा कैसे नर पर होता है?

(A) जो दुख में दुख नहीं मानता

(B) जो दुख-सुख में उदासीन रहता

(C) जो कंचन और मिट्टी में भेद नहीं समझता

(D) .उपर्युक्त सभी

14. नानक की दृष्टि में ब्रह्म का निवास कहाँ है?

(A) मंदिर में                        (B) मस्जिद में

(C) कर्मकाण्ड में                (D) .सच्चे हृदय में

15. ‘राम नाम बिनु बिरथे जगि जन्मा’ किस पर बल देता है?

(A) बाहरी वेश-भूषा                  (B) कर्मकाण्ड

(C) पूजा-पाठ                          (D) .सच्चे हृदय से राम नाम के कीर्तन

16. ‘रहिरास’ किसकी रचना है?

(A) गुरु गोविन्द सिंह                      (B) .गुरुनानक

(C) नानक                                   (D) घनांनंद

17. वाणी कब विष के समान हो जाती है?

(A) .राम-नाम के बिना                                      (B) तीर्थ-यात्रा के बिना.

(C) ज्ञान के बिना                                              (D) इनमें से कोई नहीं

18. बिरथे का अर्थ है

(A) .व्यर्थ                                   (B) बिना

(C) संसार                                  (D) विष

19. कवि नानक ने किसके बिना जगत में यह जन्म व्यर्थ मानते हैं?

(A) पूजा-पाठ                          (B) बाह्यडंवर

(C) .नाम-जप, कीर्तन                (D) कर्मकाण्ड

20. गुरु अर्जुनदेव सिखों के गुरु थे।

(A) पहले                           (B) .पाँचवे

(C) सातवे                         (D) दसवे

21. गुरुनानक अपने प्राण कब त्याग दिए थे?

(A) 1519                          (B) 1529

(C). 1539                         (D) 1549

22. जो नर दुख में दुख नहीं मानै किनकी रचना है?

(A) रसखान                                (B) .गुरुनानक

(C) भारतेन्दु हरिशचन्द्र                  (D) घनानंद

23. गुरुनानक की रचनाओं का संगत किसने किया?

(A) गुरु रामदास                                (B) हरगोविन्द सिंह

(C) गुरु गोविन्द सिंह                           (D) .गुरु अर्जुन देव सिंह

24. ‘राम नाम बिनु विरथे जगि जनमा’ के माध्यम से कवि किसका विरोध करते हैं?

(A) बाह्याडंवर                       (B) पूजा-पाठ

(C) कर्मकाण्ड                     (D). सभी का

25. हरिरस से कवि का क्या अभिप्राय है?

(A) संध्या आरती                                                (B) कर्मकाण्ड

(C). राम नाम के जप से                                     (D) इनमें से कोई नहीं

26. किस कवि ने वर्णाश्रम व्यवस्था और कर्मकाण्ड का विरोध करके निर्गुण ब्रह्म की भक्ति का प्रचार किया?

(A) घनानंद ने                       (B) प्रेमघन ने

(C) कुवँर नारायण ने              (D). गुरुनानक ने

27. गुरुनानक के पद है।

(A) राम भक्तिमय गीत               (B) .प्रेम एवं भक्ति के मधुर गीत

(C) सूफी गीत                           (D) कृष्ण भक्तिमय गीत

28. ‘राम नाम बिनु विरथे जगि जनमा’ शीर्षक कविता के अनुसार ईश्वर की शरण में जाने का अधिकारी कौन है ?

(A) जो अहंकारी                (B) जो निराश हो

(C) जो दुखी हो                 (D). जिसका अंतःकरण निर्मल हो

29. नानकाना साहब का संबंध है

(A) .गुरुनानक से              (B) रसखान से

(C) प्रेमघन से                      ‘ (D) घनानंद से

30. जपुजी’ किसकी रचना है ?

(A) कबीर                            (B) रहीम

(C) .गुरुनानक                      (D) घनानंद

31. गुरुनानक किसका विरोध करते हैं?

(A) वाह्याडंवर का                    (B) तीर्थाटन का

(C) कर्मकाण्ड का                    (D). उपर्युक्त सभी का

32. किनकी रचनाओं का संग्रह ‘गुरु ग्रंथ साहिब’ के नाम से प्रसिद्ध हुआ?

(A). गुरुनानक                        (B) गुरु अर्जुन देव

(C) गुरु गोविन्द सिंह                (D) रसखान

33. “हरिरस” से कवि का क्या अभिप्राय है?

(A) पूजा–वंदना                 (B) .राम नाम का जाप

(C) प्राय कालीन पूजा           (D) संध्याकालिन आरती

 

प्रश्न:―

1. भारतमाता कविता में भारत के किस रूप का उल्लेख है?

उत्तर-भारतमाता कविता में कवि पंत ने पराधीन भारत की अवस्था का वर्णन किया है, अंग्रेजों के अत्याचार और शोषण के कारण वातावरण में निराशा छाई हुई है। चन्द्रमा रूपी मुख-मण्डल की भवें झुकी हुई है। सोने की चिड़िया कहलाने वाले देश की जनता अर्द्धनग्न और भूखी है। आज सर्वत्र अंधविश्वास, अज्ञानता का साम्राज्य व्यवस्थित हो गया है।

2. ‘भारतमाता’ शीर्षक कविता किस कविता संकलन से ली गई है?

उत्तर- ‘भारतमाता’ शीर्षक कविता प्रख्यात छायावादी कवि सुमित्रानंदन पंत की कविताओं के संग्रह ‘ग्राम्या’ से संकलित है। इस कविता के माध्यम से कवि भारत का यथातथ्य चित्र प्रस्तुत किया है।

3. कवि की दृष्टि में आज भारतमाता का तप-संयम क्यों सफल है?

उत्तर- आज भारतमाता का तप और संयम सफल हो रहा है। आज भारत के लोगों की तपस्या और संयम सफल है। भारतमाता ने भारतीयों को अहिंसा का स्तन दूध पिलाया है जो अमृत की तरह है। भारत की यह अहिंसा लोगों के मन का डर हर लेती है। अहिंसा इस संसार के अंधकार और भ्रम को दूर कर देती है। जगत् की जननी भारतमाता जीवन का विकास करनेवाली है। आज भारत का तप और संयम सफल हो रहा है।

4. भारतमाता अपने ही घर में प्रवासिनी क्यों बनी हुई हैं?

उत्तर- ‘भारतमाता गुलामी के कारण अपने घर में ही प्रवासिनी प्रदेश में रहनेवाली बनी हुई है। यह कविता गुलाम भारतवर्ष में लिखी गयी थी ।भारतमाता दीनता में जड़ीभूत हैं। उनकी पलके नहीं गिरती हैं। उनका चित्त झुका हुआ है। मन गिरा हुआ है । मन अवसादग्रस्त है । अधरों पर, ऑटों पर दीर्घकाल से नीरव रोदन-रूलाई थिरक रही है। युगों-युगों के अंधकार से मन विषाक्त हो गया है । वह अपने घर में ही घर-विहीन प्रवासिनी बनी हुई है। भारतमाता के कष्टों को बयान करनेवाली ये पंक्तियाँ भारत की गरीबी का यथार्थ चित्रण प्रस्तुत करती है।

5. भारतमाता का ह्रास भी राहुग्रसित क्यों दिखाई पड़ता है?

उत्तर – जिस प्रकार पूर्ण चन्द्रमा की रात ज्योत्सना को राहु ग्रस कर निस्तेज कर देता है, ठीक उसी प्रकार भारतमाता की हँसी बंद है। वह दुःख, अभाव, गरीबी से ग्रसित है । उसकी आजादी को विदेशियों ने छीनकर गुलाम बना डाला है। ऐसी पराजय, संताप, दुःख और दैन्य के कारण ही भारतमाता की मुस्कुराहट राहुग्रसित दिखायी पड़ती है।

Matric Exam Class- 10th Bihar Board

Leave a Reply

Your email address will not be published.